बॉलीवुड इंडस्ट्री के दिग्गज अभिनेता ओम पुरी से जुड़े किस्से आज भी लोगों के बीच हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड जगत का अपने हुनर का लोहा मनवा चुके ओम पुरी का जन्म 18 अगस्त 1950 को हुआ था। अंबाला में जन्मे ओमपुरी का बचपन तंगहाली में गुजरा जिसके कारण उन्हें होटल में बर्तन धोने पड़ गए थे। उन्होंने कोयला का काम भी किया था। लेकिन फिल्मो में आने के बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।
उनकी एक्टिंग के लाखों लोग दीवाने थे हालांकि फिल्मों के अलावा अपनी जिंदगी भी उनकी काफी सुर्खियों में रही है। उनके नाम कई विवाद है। और कहा तो यह जाता है कि उन्होंने 14 साल की उम्र में नौकरानी से संबंध बनाए थे । आपको बता दें किओम पुरी ने दो शादियां की थीं। उनकी दूसरी पत्नी नंदिता पुरी ने उनकी जिंदगी पर ‘अनलाइकली हीरो: द स्टोरी ऑफ़ ओम पुरी’ किताब लिखी थी। इस किताब के आने के बाद काफी विवाद हुआ था।
om.jpgकिताब की यदि माने तो ओमपुरी जब 14 साल के थे उनके उन्हीं के नौकरानी के साथ अंतरंग रिश्ते बन गए थे। उन्होंने इस बारे में बेबाकी से जवाब भी दिया था। ओमपुरी की माने तो उन्होंने खुद और नौकरानी को सामने रखते हुए पब्लिक से ही पूछ लिया कि आप ही बताए इस पूरे वाक्ये में 14 साल के लड़के का कुसूर है या फिर 55 साल की नौकरानी का। किताब में उस पूरे वाक्ये के बारे में विस्तार से लिखा गया है। ओमपुरी उन दिनों अपने मामा के यहां पर थे।इसी दौरान घर की लाइट चली गई। नौकरानी पहले से ही ओमपुरी पर निगाह गड़ाए बैठी थी। लिहाजा लाइट जाने के बाद उसने ओम को जकड़ लिया और कमरे में ले जाकर संबंध बनाए। इस वाक्ये के बाद ओमपुरी और नौकरानी कई बार नजदीक आए और ऐसा कहा जाता है कि नौकरानी ही ओमपुरी की पहला प्यार थी ।
इसके साथ ही उन्होंने किताब में लिखा है कि, ओम पुरी के एक ऐसी महिला के साथ भी संबंध में थे जो उनके बीमार पिता की देखरेख किया करती थी। उस समय अभिनेता की उम्र 37 साल थी। इस बारे में ओम पुरी ने कहा था कि, ”मेरे लिए वह एक नौकरानी नहीं थी। वो हमारे घर पर सबकी देखरेख किया करती थीं। मेरे पिता की उम्र लगभग 80 साल थी और कोई उनकी देखरेख नहीं करता था ऐसे समय में वह आई थी। वह एक तलाकशुदा महिला थी और उस समय मेरी शादी भी नहीं हुई थी।”

 

ओमपुरी ने जब अपनी जिंदगी की किताब पढ़ी तो उन्हें लगा कि फैंस के बीच उनकी अब बेइज्जती हो चुकी है। उनकी इन दोनों ही कहानियों ने ओमपुरी का रुतबा गिरा दिया है। इस बात को लेकर नंदिता और ओमपुरी में काफी बहस हुई और आखिरकार दोनों अलग हो गए। ओम पूरी अपनी निजी जिंदगी में काफी दर्द से गुजरे है। अपनी जिंदगी के आखरी समय में वह अकेले ही थे। एक बड़े एक्टर का इस तरह दुनिया से रुख्सत होना सभी के लिए दुखदाई था। ‘अर्धसत्य’ से लेकर ‘मकबूल’ और ‘माचिस’ जैसी उनकी फिल्में आज भी याद की जाती है। इनमे उनका जोरदार अभिनय देखने को मिलता है।

Advertisement